Moto G5S Plus और Moto G5S का रिव्यू

Moto G5S Plus और Moto G5S का रिव्यू

ख़ास बातें

  • Moto G5S और G5S Plus फुल-मेटल बॉडी डिवाइस हैं
  • कुछ महीने पहले लॉन्च किए गए Moto G5 और G5 Plus के अपग्रेड हैं
  • मोटो जी5एस प्लस दो रियर कैमरे वाला फोन है
लेनोवो के मोटो जी सीरीज़ को वैल्यू फॉर मनी प्रोडक्ट के लिए जाना जाता है। और भारतीय ग्राहकों ने इन हैंडसेट को हाथों-हाथ लिया है। 2014 से अब तक 70 लाख मोटो जी हैंडसेट भारत में बेचे गए हैं। इस सीरीज़ के पांचवें जेनरेशन के डिवाइस मोटो जी5 और मोटो जी5 प्लस को कुछ महीने पहले ही भारत में लॉन्च किया गया था। ये अब भी मार्केट में उपलब्ध हैं और इस बीच लेनोवो ने दोनों ही हैंडसेट का स्पेशल एडिशन मार्केट में उतार दिया है।

नए Moto G5S और Moto G5S Plus हैंडसेट को भारत में पिछले महीने लॉन्च किया गया था। दोनों ही हैंडसेट के साथ नए फीचर और अपग्रेड का वादा किया गया है। मोटोरोला ब्रांड के लिए यह साल बेहद ही व्यस्त रहा है। मोटो ई, मोटो सी और मोटो ज़ेड हैंडसेट भारत में लॉन्च हो चुके हैं। वहीं, मोटो एक्स4 को हाल ही में अंतरराष्ट्रीय मार्केट में उतारा गया था। जी सीरीज़ के नए हैंडसेट पेश करने के पीछे लेनोवो ने 15,000 रुपये वाले प्राइस सेगमेंट में बढ़ रही चुनौतियों को अहम वजह बताई है। वहीं, ग्राहक भी खर्च से बहुत ज़्यादा परहेज नहीं कर रहे। क्या यह रणनीति लेनोवो के काम आएगी? आइए जानते हैं।

Moto G5S Plus और Moto G5S डिज़ाइन

लेनोवो अपने मोटो जी डिवाइस को सस्ते दाम में बेहतर स्पेसिफिकेशन वाले हैंडसेट से ज़्यादा ‘वैल्यू फॉर मनी’ प्रोडक्ट के तौर पर देखती है। ये फोन फंक्शनल होने के साथ मजबूत होते हैं। लेकिन इन्हें कभी खूबसूरती के लिए नहीं जाना गया। Moto G5 और G5 Plus, कंपनी की मोटो जी सीरीज़ के शुरुआती हैंडसेट हैं जिनमें मेटल का थोड़ा-बहुत इस्तेमाल हुआ था। स्पेशल एडिशन डिवाइस में कंपनी ने इस रणनीति को और आगे ले जाने की कोशिश की है।

Moto G5S और G5S Plus फुल-मेटल बॉडी डिवाइस हैं। डिवाइस हाथों में रखने पर पुराने वेरिएंट से ज़्यादा प्रीमियम होने का एहसास देते हैं, खासकर मोटो जी5एस प्लस।

हाल के मोटो डिवाइस में एक जैसे डिज़ाइन लैंगवेज का इस्तेमाल हुआ है। इसमें कोई बुराई नहीं है। दोनों ही फोन के फ्रंट पैनल पर फिंगरप्रिंट रीडर हैं जो बिना परेशानी काम करते हैं। दोनों ही हैंडसेट के फ्रंट पैनल लगभग एक जैसे हैं।

पुराने स्टाइल वाला माइक्रो-यूएसबी पोर्ट फोन के निचले हिस्से पर है। इसके दोनों तरफ स्पीकर ग्रिल और माइक्रोफोन को जगह मिली है। कैमरे के लिए सर्कुलर उभार है जिसमें सेंसर और फ्लैश मॉड्यूल को जगह मिली है। जाना-पहचाना मोटो लोगो बीच में है और एंटीना बैंड अब भी साफ नज़र आते हैं। कुल मिलाकर, मोटो जी5एस और मोटो जी5एस प्लस दिखने में पुराने वेरिएंट से बहुत बेहतर हैं। दोनों ही हैंडसेट पानी के मामूली छीटों से सुरक्षित हैं, क्योंकि ये नैनो कोटिंग के साथ आते हैं।

Moto G5 Plus (रिव्यू) की तुलना में मोटो जी5एस प्लस ज़्यादा चौड़ा है और स्क्रीन भी बड़ा है। यह फोन एक हाथ से इस्तेमाल करने के लिए उपयुक्त नहीं है। 168 ग्राम वज़न को मैनेज करना संभव है। दूसरी तरफ, Moto G5S की बिल्ड क्वालिटी शानदार है। और बनावट ऐसी है कि इसे एक हाथ से इस्तेमाल करना सहूलियत भरा है। 157 ग्राम वाला यह फोन अपनी बॉडी के हिसाब से हलका होने का एहसास देता है।

मोटो जी5एस प्लस का 5.5 इंच का फुल-एचडी स्क्रीन कॉर्निंग गोरिल्ला ग्लास 3 प्रोटेक्शन के साथ आता है। यह एक ब्राइट पैनल है। टेक्स्ट और इमेज क्रिस्प नज़र आते हैं। कलर्स स्क्रीन पर निखर कर आते हैं। हमें इससे कोई शिकायत नहीं है। व्यूइंग एंगल और ब्राइटनेस स्तर भी ठीक हैं।

moto

मोटो जी5एस में 5.2 इंच का फुल-एचडी स्क्रीन है। इस पर भी कॉर्निंग गोरिल्ला ग्लास 3 की प्रोटेक्शन मौज़ूद है। यह दैनिक इस्तेमाल के लिए बना है। ब्राइटनेस ठीक-ठाक है। हालांकि, इसका पैनल हमारी पसंद से ज़्यादा रिफ्लेक्ट कर रहा था। सूरज की सीधी रोशनी में हमें इस पर पढ़ पाने में दिक्कत हुई। इस वजह से बार-बार ब्राइटनेस को सर्वाधिक स्तर पर ले जाना पड़ा। व्यूइंग एंगल अच्छे हैं लेकिन हमें आउटडोर इस्तेमाल करने में खासी परेशानी का सामना करना पड़ा।

दोनों ही फोन हरे रंग के रिटेल बॉक्स में आते हैं जिन पर आगे की तरफ  “special edition” साफ-साफ लिखा है। इससे साफ हो जाता है कि ये फोन मोटो जी फोन के पांचवें जेनरेशन डिवाइस के अपग्रेड हैं। आपको एक टर्बो पावर चार्जिंग एडप्टर, माइक्रो-यूएसबी केबल, सिम इजेक्टर टूल और हेडसेट मिलेगा।

Moto G5S Plus और Moto G5S के स्पेसिफिकेशन व सॉफ्टवेयर

मोटो जी5एस प्लस में 5.5 इंच का फुल-एचडी (1080×1920 पिक्सल) आईपीएस एलसीडी डिस्प्ले है। इसमें क्वालकॉम स्नैपड्रैगन 625 ऑक्टा-कोर प्रोसेसर के साथ 4 जीबी रैम मौज़ूद हैं।

मोटो जी5एस प्लस के डुअल रियर कैमरा फीचर की जोर-शोर से मार्केटिंग हो रही है। Moto G5S प्लस में पिछले हिस्से पर 13 मेगापिक्सल के दो रियर कैमरे हैं। दोनों का ही अपर्चर एफ/2.0 है। आपको डेप्थ एडिटिंग सॉफ्टवेयर के साथ कलर करेक्ट करने वाला डुअल एलईडी फ्लैश मिलेगा। फ्रंट पैनल पर एफ 2.0 अपर्चर वाला 8 मेगापिक्सल का सेंसर है। यह एक वाइड एंगल लेंस है और एलईडी फ्लैश के साथ आता है।

इनबिल्ट स्टोरेज 64 जीबी है और ज़रूरत पड़ने पर 128 जीबी तक का माइक्रोएडी कार्ड इस्तेमाल करना संभव है। मोटो जी5एस प्लस में दो नैनो सिम स्लॉट हैं। हाइब्रिड स्लॉट के कारण इनमें से एक स्लॉट माइक्रोएसडी कार्ड स्लॉट के तौर पर काम आएगा। हैंडसेट के कनेक्टिविटी फीचर में 4जी, वाई-फाई, ब्लूटूथ 4.2, जीपीएस/ ए-जीपीएस, माइक्रो-यूएसबी और 3.5 हेडफोन जैक शामिल हैं। स्मार्टफोन की बैटरी 3000 एमएएच की है। टर्बोपावर चार्जर के कारण मात्र 15 मिनट के चार्ज में 6 घंटे तक की बैटरी लाइफ मिल जाएगी। इस हैंडसेट का वज़न 168 ग्राम और डाइमेंशन 153.5×76.2×8 मिलीमीटर।

अब बात छोटे वेरिएंट की। मोटो जी5एस में 5.2 इंच का फुल-एचडी स्क्रीन है। इस पर भी कॉर्निंग गोरिल्ला ग्लास 3 की प्रोटेक्शन मौज़ूद है। मोटो जी5एस में क्वालकॉम स्नैपड्रैगन 430 ऑक्टा-कोर चिपसेट के साथ 4 जीबी रैम हैं। इनबिल्ट स्टोरेज 32 जीबी है और आप 128 जीबी तक का माइक्रोएसी कार्ड इस्तेमाल कर पाएंगे। लेनोवो ने मोटो जी5एस के सिंगल कैमरे के बारे में भी बढ़-चढ़कर बताया है। पिछले हिस्से पर 16 मेगापिक्सल का सेंसर है जो एफ 2.0 अपर्चर, फेज़ डिटेक्शन ऑटो फोकस और एलईडी फ्लैश से लैस है। फ्रंट पैनल पर 5 मेगापिक्सल का कैमरा दिया गया है। इस स्मार्टफोन के कनेक्टिविटी फीचर में 4जी वीओेएलटीई, वाई-फाई, ब्लूटूथ 4.2, जीपीएस/ ए-जीपीएस, माइक्रो-यूएसबी और 3.5 एमएम हेडफोन जैक शामिल हैं। इस स्मार्टफोन की भी बैटरी 3000 एमएएच की है और टर्बो चार्जर भी मिलेगा। वज़न 157 ग्राम है और डाइमेंशन 150×73.5×8.2 मिलीमीटर।

moto

दोनों की हैंडसेट एंड्रॉयड 7.1 नूगा पर चलते हैं जो आज की तारीख में मार्कट में उपलब्ध लेटेस्ट एंड्रॉयड वर्ज़न नहीं है। अन्य मोटो डिवाइस की तरह मोटो जी5एस और मोटो जी5एस प्लस में मोटोरोला के कुछ सॉफ्टवेयर फीचर भी हैं।
आपको एंड्रॉयड 7.1 नूगा के कई काम के फीचर मिलेंगे, जैसे- ऐप आइकन पर लंबे समय तक टैप करके क्विक एक्शन परफ़ॉर्म करने की सुविधा। स्पिल्ट स्क्रीन मल्टीटास्किंग फीचर मिलेगा। दोनों ही फोन में लगभग स्टॉक एंड्रॉयड का अनुभव मिलेगा, मोटोरोला के मामूली तड़के के साथ। आपको मोटो एक्शन्स और मोटो डिस्प्ले जैसे सॉफ्टवेयर फीचर मिलेंगे। मोटो एक्शन्स की मदद से आप वन बनट नेव को एक्टिवेट कर पाएंगे। इसके बाद आप फिंगरप्रिंट सेंसर के ज़रिए स्क्रीन पर नेविगेट कर पाएंगे। मोटो डिस्प्ले के तहत यूज़र नाइट डिस्प्ले मोड एक्टिव कर पाएंगे जो ब्लू लाइट को कम कर देता है। इसके अलावा स्टैंडबाय मोड में यह नोटिफिकेशन को फेड इन और फेड आउट कर देता है।

मोटो डिवाइस उन चुनिंगा गैर-गूगल स्मार्टफोन में से हैं जिन्हें एंड्रॉयड सिक्योरिटी अपडेट मिलता है। ऐसे में आप भविष्य में सॉफ्टवेयर अपडेट के लिए आश्वस्त रहिए। मोटो जी5एस और मोटो जी5एस प्लस में कोई अनचाहा ऐप भी नहीं मिलेगा।

Moto G5S Plus और Moto G5S के कैमरे

भारतीय मार्केट में डुअल कैमरा स्मार्टफोन की बाढ़ सी आ गई है। मोटो जी5एस प्लस इस क्लब का नया सदस्य है। यह काम करता है। हमें इसके डुअल कैमरा सेटअप से परिचित होने में थोड़ा वक्त लगा। आपके पास तस्वीरें लेने के बाद भी एडिट करने की सुविधा है लेकिन फोटो को अब भी पॉलिशिंग की ज़रूरत है। अच्छी रोशनी में डेप्थ शॉट में बैकग्राउंड पर्याप्त तौर पर ब्लर होते हैं। लेकिन किनारे स्पष्ट तौर पर परिभाषित नहीं लगते। इस पर लेनोवो को काम करना होगा। दूसरी तरफ, Xiaomi Mi A1 की तुलना में मोटो जी5एस प्लस कम रोशनी में फोटोग्राफी के लिए ज़्यादा सक्षम नज़र आता है। हम कम रोशनी में अच्छे खासे डिटेल और नियंत्रित नॉयज़ लेवल के साथ ठीक-ठाक शॉट लेने में सफल रहे।

moto
moto

अच्छी रोशनी में रेगुलर शॉट में भी नेचुलर कलर और टेक्सचर्स थे। मोटो जी5एस प्लस से लिए गए लैंडस्केप शॉट भी अच्छे आए। एचडीआर मोड भी अच्छा काम करता है। हालांकि, हमने पाया कि ब्राइट परिस्थितियों में हाइलाइट्स कई बार ज़्यादा एक्सपोज़ लगे।

हमारा मानना है कि कम रोशनी वाली परिस्थितियों में मोटो जी5एस प्लस मौज़ूदा चुनौतियों से बेहतर परफॉर्मेंस देता है।

moto
moto

Moto G5S का कैमरा मोटो जी5 की तुलना में बहुत बेहतर है। फेज़ डिटेक्शन ऑटोफोकस की मदद से मोटो जी5एस सही एक्सपोज़र हासिल करता है और ऑटोफोकसिंग में ज़्यादातर मौकों पर सटीक रहता है। आउट डोर शॉट में डिटेल की कोई कमी नहीं थी। लेकिन हाइलाइट्स कई बार ज़रूरत से ज़्यादा एक्सपोज़ लगे। मोटो जी5एस मैक्रो शॉट में बेहतरीन काम करता है। हम कई बेहतरीन क्लोज अप शॉट लेने में सफल रहे, मोटो जी5एस प्लस से भी बेहतर। लैंडस्केप शॉट को औसत ही माना जाएगा। इंडोर शॉट में कुछ कमियां थीं। परछाई या अंधेरे इलाकों में डिटेल नहीं थे। कम रोशनी में मोटो जी5एस का कैमरा कमज़ोर पड़ जाता है। हमारे सैंपल शॉट में बहुत ज़्यादा नॉयज थी।

Moto G5S Plus और Moto G5S परफॉर्मेंस मोटो जी5एस और मोटो जी5एस प्लस ज़्यादातर काम अच्छे से निभाते हैं। हमें कभी भी और ज़्यादा पावर की ज़रूरत महसूस नहीं हुई। मोटो जी5एस प्लस पर पावरफुल ग्राफिक्स वाले गेम खेलने में कोई दिक्कत नहीं हुई। मल्टी टास्किंग से भी कोई शिकायत नहीं है। 5.5 इंच का डिस्प्ले वीडियो देखने और गेम खेलने के लिए बिल्कुल उपयुक्त है। हालांकि, हमें फोन के ज़्यादा गर्म होने की शिकायत है। अगर कैमरा ऐप भी थोड़े वक्त तक खुला रहा तो फोन बहुत ज़ल्द ही गर्म हो जाता है। यह चौंकाने वाला है, क्योंकि इस प्रोसेसर के साथ आने वाले शाओमी मी ए1 और मी मैक्स 2 इतना गर्म नहीं होते।

Moto G5S Plus का स्पीकर छोटे कमरे के लिए पर्याप्त आवाज़ देता है। लेकिन सर्वाधिक वॉल्यूम पर आवाज़ स्पष्ट नहीं रह जाती। मोटो जी5एस प्लस के साथ दिया गया हेडसेट औसत क्वालिटी का है। आप इससे ज़्यादा उम्मीदें ना रखें। चौंकाने वाली बात है कि रिव्यू करते वक्त हैंडसेट में वॉयस ओवर एलटीई सपोर्ट नहीं मौज़ूद था। इस वजह से हम फोन में जियो4वॉयस ऐप इस्तेमाल करने के बाद ही रिलायंस जियो सिम से फोन कॉल कर पाएंगे।

दूसरी तरफ, मोटो जी5एस आम तौर पर ठंडा रहता है। लंबे वक्त तक गेम खेलने या वीडियो देखने के बाद ही यह थोड़ा गर्म होता है। फोन इस्तेमाल करने में स्मूथ है और बिल्कुल ही धीमा नहीं है। इसमें 4जी वीओएलटीई है और कॉल क्वालिटी ठीक-ठाक है। रिफ्लेक्ट होने वाले स्क्रीन के कारण मोटो जी5एस मल्टीमीडिया के लिए बेहद कारगर नहीं है। हमें कई बार ब्राइटनेस स्तर से छेड़छाड़ करनी पड़ी। लाउडस्पीकर से बेहद ही स्पष्ट आवाज़ आती है। इसके साथ भी दिए गए हेडसेड की क्वालिटी बेहद ही औसत है।

moto

रिव्यू के दौरान हमने यह भी पाया कि दोनों ही हैंडसेट चार्जिंग के दौरान गर्म हो जाते हैं। यह कमी हमें हर डिवाइस में देखने को नहीं मिलती।

Moto G5S Plus और Moto G5S बैटरी लाइफ

Moto G5S और Moto G5S Plus में 3000 एमएएच की बैटरी है। बैटरी क्षमता थोड़ी कम लगी, क्योंकि बड़े फोन में बड़ी बैटरी के लिए जगह होती है।जमकर इस्तेमाल करने पर मोटो जी5एस की बैटरी करीब 18 घंटे तक चली और जी5एस प्लस की बैटरी करीब 14 घंटे तक। हमारे स्टेंडर्ड एचडी वीडियो लूप टेस्ट में मोटो जी5एस की बैटरी 12 घंटे 35 मिनट तक चली और प्लस वेरिएंट की बैटरी 11 घंटे 15 मिनट तक।

अच्छी बात यह है कि दोनों ही फोन टर्बोपावर एडप्टर के साथ आते हैं। मोटो जी5एस की बैटरी करीब 60-70 मिनट में 100 फीसदी चार्ज हो जाती है, जबकि मोटो जी5एस प्लस थोड़ा ज़्यादा वक्त लेता है।

हमारा फैसला

भारतीय स्मार्टफोन मार्केट में स्थिति तेजी से बदलती रहती है। ऐसे में लेनोवो द्वारा स्पेशल एडिशन वेरिएंट लॉन्च करने का फैसला सही लगता है। लेकिन पुराने मॉडल के यूज़र को निराशा होगी। Moto G5S और Moto G5S Plus की मदद से कंपनी का प्रोडक्ट लाइनअप फ्रेश लगेगा। मोटो जी5एस प्लस की बिक्री डुअल कैमरा सेटअप के कारण होगी, खासकर शाओमी मी ए1 (रिव्यू) की चुनौती के सामने। हालांकि, डुअल कैमरा इस्तेमाल करने के यूज़र अनुभव को कंपनी और बेहतर बना सकती है। स्टॉक एंड्रॉय को हमेशा से अच्छा माना जाता रहा है, लेकिन यह भी अब आम होता जा रहा है। फास्ट चार्जिंग सपोर्ट भी इसके पक्ष में जाता है।

मोटो जी5 की तुलना में मोटो जी5एस बहुत बेहतर है। लेकिन इसे Xiaomi Redmi Note 4 (रिव्यू) से बड़ी चुनौती मिलेगी जो कम दाम में उपलब्ध है। मोटो जी5एस प्लस की भिड़ंत शाओमी मी ए1 से होगी जिसकी कीमत भी थोड़ी कम है।

अगर आप मोटोरोला के फैन हैं तो मोटो जी5एस प्लस या मोटो जी5एस आपको ज़रूर लुभाएगा। क्योंकि ये दिखने में बेहतरीन हैं और अपनी कीमत के हिसाब से हर डिपार्टमेंट में अच्छी परफॉर्मेंस देते हैं। हम उम्मीद करते हैं कि लेनोवो जल्द ही मोटो जी5एस प्लस के लिए वीओएलटीई सपोर्ट रोलआउट करेगी। अब तो जियो के अलावा एयरटेल भी वीओएलटीई सेवा लेकर आ गई है।

Advertisements

वीवो वी7+ (Vivo V7+) का रिव्यू

वीवो वी7+ (Vivo V7+) का रिव्यू

ख़ास बातें

  • Vivo V7+ स्मार्टफोन 21,990 रुपये में मिलता है
  • यह हैंडसेट वीवो वी5 प्लस का अपग्रेड है
  • इस बार कंपनी ने फ्रंट पैनल पर 24 मेगापिक्सल का सेंसर दिया है
वीवो ने सेल्फी के दीवानों के लिए एक और स्मार्टफोन वी7+ को लॉन्च किया है। यह हैंडसेट वीवो वी5 प्लस (रिव्यू) का अपग्रेड है। इस बार कंपनी ने फ्रंट पैनल पर दो कैमरा सेटअप नहीं दिया है, बल्कि ज़्यादा रिज़ॉल्यूशन वाला एक ही कैमरा इस्तेमाल किया है। हालांकि, अपग्रेड सिर्फ फ्रंट कैमरे तक सीमित नहीं रहा है। लोकप्रिय ट्रेंड 18:9 डिस्प्ले को भी फोन का हिस्सा बनाया गया है।

21,990 रुपये रोचक कीमत है, क्योंकि इस प्राइस रेंज में ग्राहकों के पास खरीदने लायक कम विकल्प हैं। ऐसे में वीवो के लिए यह एक बेहतरीन मौका है। कंपनी ने वीवो वी7+ में क्या-कुछ खास दिया है? क्या इसे खरीदना फायदे का सौदा है? आइए जानते हैं…

Vivo V7+ डिज़ाइन और बिल्ड क्वालिटी

फोन की बिल्ड क्वालिटी अच्छी है। यह स्लिम होने के साथ हल्का भी है। मोटाई सिर्फ 7.7 मिलीमीटर है। पॉकेट में रखकर घूमना सहूलियत भरा है और बनावट ऐसी है कि ग्रिप करने में भी दिक्कत नहीं होती। इसका पिछला हिस्सा प्लास्टिक का है। लेकिन यह दूर से मेटल जैसा लगता है। फिनिशिंग अच्छी है और वीवो ने टॉप व निचले हिस्से के किनारों पर क्रोम एक्सेंट दिया है जो फोन की खूबसूरती बढ़ाने का काम करता है।

3.5 एमएम हेडफोन सॉकेट, माइक्रो-यूएसबी पोर्ट और स्पीकर ग्रिप निचले हिस्से पर हैं। बायीं तरफ एक सिम ट्रे है जिसमें दो नैनो सिम व माइक्रोएसडी कार्ड के लिए स्लॉट हैं। आप 256 जीबी तक का माइक्रोएसडी कार्ड इस्तेमाल कर पाएंगे। पिछले वेरिएंट में स्टोरेज बढ़ाने की सुविधा नदारद थी। वॉल्यूम और पावर बटन दायीं तरफ हैं। इस्तेमाल के दौरान उन तक पहुंचने में दिक्कत नहीं होती। सिर्फ माइक्रो-यूएसबी कनेक्टर देखकर निराशा हुई। हमारे विचार से नए टाइप-सी पोर्ट का इस्तेमाल होना चाहिए था।

Vivo

वीवो के पुराने फोन से सबसे अहम अंतर 18:9 आस्पेक्ट रेशियो है। टॉप व निचले हिस्से पर बॉर्डर पतले हैं। किनारों पर तो, और भी पतले। डिस्प्ले पर 2.5डी कर्व्ड एज गोरिल्ला ग्लास प्रोटेक्शन है जो दिखने में अच्छा है। अफसोस कि वीवो ने रिज़ॉल्यूशन पर ध्यान नहीं दिया। 5.99 इंच के स्क्रीन के लिए कंपनी ने एचडी (720×1440 पिक्सल) रिज़ॉल्यूशन दिया है जो निराश करने वाला है। चौंकाने वाली बात है कि डिस्प्ले हमारी उम्मीद के इतना खराब नहीं है। आइकन और टेक्स्ट बहुत ज़्यादा शार्प नहीं नज़र आते। कलर्स विविध हैं और व्यूइंग एंगल भी बुरे नहीं। स्क्रीन के ऊपर एलईडी नोटिफिकेशन के लिए भी जगह है।

रियर कैमरा पिछले हिस्से पर उभार के साथ आता है। रिव्यू के दौरान कैमरा लेंस पर कोई खरोंच का निशान नहीं पड़ा। फिंगरप्रिंट सेंसर रियर हिस्से के मध्य में है, ठीक वीवो के लोगो से ऊपर। सेंसर तेज़ी से आपकी पहचान करेगा। आप इस सेंसर की मदद से ऐप को भी लॉक कर पाएंगे और सेल्फी ले पाएंगे। बॉक्स में आपको सिलिकॉन कवर, सिम इजेक्टर टूल, क्विक स्टार्ट गाइड, हेडसेट, डेटा केबल और 10 वॉट चार्जर मिलेगा।

Vivo V7+ के स्पेसिफिकेशन और फीचर

वीवो वी7+ में क्वालकॉम के 400 सीरीज़ के टॉप एंड स्नैपड्रैगन 450 प्रोसेसर का इस्तेमाल हुआ है। यह क्वालकॉम के अपने एड्रेनो 506 जीपीयू के साथ आता है। परफॉर्मेंस के मामले में यह स्नैपड्रैगन 400 सीरीज़ के बाकी प्रोसेसर से बेहतर है। मल्टीटास्किंग में दिक्कत नहीं होती और गेम खेलना भी आसान है। यह क्वालकॉम के स्नैपड्रैगन 625 प्रोसेसर इतना तेज़ नहीं है। लेकिन इसे कमज़ोर भी नहीं कहा जा सकता। फोन में 4 जीबी रैम के साथ 64 जीबी स्टोरेज दी गई है, जो अच्छी बात है। अन्य स्पेसिफिकेशन में डुअल-बैंड वाई-फाई, ब्लूटूथ 4.2, यूएसबी-ओटीजी और एफएम रेडियो शामिल हैं।

Vivo

वीवो ने अपने फनटचओएस को अपग्रेड किया है। यह एंड्रॉयड 7.1.2 नूगा पर आधारित है। लेकिन एंड्रॉयड पर बने इस कस्टम रॉम में आईओएस की प्रेरणा साफ झलकती है। नए वर्ज़न में नोटिफिकेशन बिल्कुल आईओएस वाले अंदाज़ में दिखते हैं। वीवो का कंट्रोल सेंटर मौज़ूद है। आप स्क्रीन पर निचले हिस्से से ऊपर की तरफ स्वाइप करके इसे एक्टिव कर सकते हैं। फनटच ओएस एक लेयर वाला यूआई है इसलिए आपके लिए सभी ऐप होमस्क्रीन पर हैं।

आप चुनिंदा ऐप में वीडियो कॉल के दौरान फेस ब्यूटी को इनेबल कर पाएंगे। स्मार्ट स्पिलिट 3.0 की मदद से आप एक वक्त पर स्क्रीन पर दो ऐप को साथ में इस्तेमाल कर पाएंगे। लेकिन यह चुनिंदा ऐप के साथ ही काम करता है। वहीं, नूगा के स्टेंडर्ड स्पिलिट स्क्रीन फीचर के लिए सपोर्ट नहीं मौज़ूद है। आप चाहें तो कुछ ऐप में दो अकाउंट चला पाएंगे। जैसे, अलग-अलग नंबर से दो व्हाट्सऐप अकाउंट को।

पहली झलक में सेटिंग्स ऐप आपको कंफ्यूज करेगा। कई फंक्शन वहां नहीं मिलेंगे जहां उन्हें होना चाहिए। इसकी थोड़ी और पॉलिशिंग हो सकती है, जैसे टेक्स्ट और मेन्यू की एलाइनमेंट।

Vivo V7+ परफॉर्मेंस, कैमरा और बैटरी लाइफ

रैंकिंग के हिसाब से कमज़ोर चिपसेट होने के बावजूद आम परफॉर्मेंस अच्छी है। हमें आमतौर पर कभी भी परफॉर्मेंस से कोई शिकायत नहीं हुई। यूआई की परफॉर्मेंस अच्छी है और फोन मल्टीटास्किंग को आसानी से हैंडल करता है। यह कभी-कभार ही धीमा पड़ा। कैजुअल गेम खेलते वक्त कोई दिक्कत नहीं होती। हालांकि, पावरफुल ग्राफिक्स वाले गेम में गेमप्ले के दौरान कई बार फ्रेमरेट निरंतर नहीं रह पाते। जियो नेटवर्क पर वीओएलटीई अच्छा काम करता है। डायलर ऐप भी स्टेंडर्ड है। इसमें अलग से वीडियो कॉलिंग ऑप्शन नहीं है, लेकिन यह बिल्ट इन कॉल रिकॉर्डर के साथ आता है।

Vivo

बड़ा डिस्प्ले तो वीडियो देखने के लिए ही बना है। फोन 1080 पिक्सल रिज़ॉल्यूशन वाले फाइल को आसानी से प्ले करता है। लेकिन ज़्यादा रिज़ॉल्यूशन वाले वीडियो में पिछड़ता है। 4के वीडियो को तो प्ले ही नहीं कर पाता।

Vivo की वी सीरीज़ के हैंडसेट फ्रंट कैमरे के लिए जाने जाते हैं। इस बार कंपनी ने 24 मेगापिक्सल का सेंसर दिया है। अपर्चर एफ/2.0 है। आपको सेल्फी और वीडियो कॉल के लिए भी ब्यूटी मोड मिलेंगे। सेकेंडरी सेंसर हटाए जाने के बावजूद भी पोर्ट्रेट मोड दिया गया है। इसकी मदद से भी आप तथाकथित बोकेह इफेक्ट पा सकते हैं, लेकिन आप डेप्थ नहीं एडजस्ट कर सकते। ज्यादातर परिस्थितियों में सेल्फी अच्छी आई। सेंसर डिटेल को अच्छे से कैपचर करता है, लेकिन स्किन टोन सटीक नहीं रहते।

vivo
vivo
vivo
vivo

कम रोशनी में भी फ्रंट कैमरा डिटेल और कलर्स कैपचर करता है और नॉयज स्तर को भी नियंत्रण में रखता है। आगे की तरफ मूनलाइट फ्लैश भी है। यह आपके चेहरे पर डिफ्यूज़ लाइट देता है। इसका इस्तेमाल कम रोशनी वाली परिस्थितियों में किया जा सकता है।

रियर हिस्से पर दिया गया 16 मेगापिक्सल का सेंसर फेज़ डिटेक्शन ऑटो फोकस के साथ आता है। दिन की रोशनी में लिए गए लैंडस्केप और मैक्रोज़ शॉट अच्छे-खासे डिटेल के साथ आते हैं। कलर्स भी अच्छे आते हैं। कम रोशनी या इंडोर में उपयुक्त रोशनी के बिना तस्वीरों की क्वालिटी में गिरावट देखने को मिलती है।

आप 1080 पिक्सल रिज़ॉल्यूशन तक के वीडियो रिकॉर्ड कर पाएंगे। क्वालिटी अच्छी है, लेकिन स्टेबलाइज़ेशन नहीं होने के कारण झटके साफ नज़र आते हैं। कैमरा ऐप लगभग पूरी तरह से ऐप्पल के आईफोन कैमरा ऐप की नकल लगता है। ऑटो एचडीआर मोड ब्राइट परिस्थितियों में बेहद ही काम का फीचर साबित होता है। आपको प्रोफेशनल, स्लो-मोशन, पनोरमा और अल्ट्रा-एचडी जैसे मोड भी मिलेंगे।

बैटरी लाइफ अच्छी है। 3225 एमएएच की बैटरी आम इस्तेमाल में एक दिन से ज़्यादा तक चल जाएगी। यह फोन फास्ट चार्जिंग को सपोर्ट नहीं करता। लेकिन हैंडसेट के साथ दिए गए चार्जर ने 1 घंटे में बैटरी को करीब 50 फीसदी तक चार्ज कर दिया। हमारे वीडियो लूप टेस्ट में बैटरी 12 घंटे 4 मिनट तक चली जो अच्छा है।

हमारा फैसला

वीवो ने अपने स्मार्टफोन में कुछ गौर करने लायक नए फीचर देने शुरू किए हैं। वीवो वी7+ भी इन कोशिशों का ही नतीज़ा है। 18:9 आस्पेक्ट वाला डिस्प्ले एक स्वागत योग्य कदम है। हमें यह भी बात अच्छी लगी कि कंपनी ने एंड्रॉयड नूगा की ओर कदम बढ़ा दिया है। फ्रंट कैमरा ज़्यादातर परिस्थितियों में अच्छा काम करता है। हालांकि, प्लास्टिक बॉडी, बजट स्तर का प्रोसेसर और कम रिज़ॉल्यूशन वाले स्क्रीन को देखते हुए यह थोड़ा महंगा लगता है।

आज की तारीख में हमारे पास ज़्यादा बेहतर बिल्ड वाले हैंडसेट हैं जो शानदार फीचर और दमदार स्पेसिफिकेशन के साथ आते हैं। और इनकी कीमत भी कम है। ऐसे में इस कीमत को देखते हुए यूज़र द्वारा ज़्यादा की मांग में कुछ भी गलत नहीं है। हमें रियर कैमरे ने बहुत प्रभावित नहीं किया। इस स्क्रीन साइज़ के लिए तो कम से कम फुल-एचडी रिज़ॉल्यूशन होना ही चाहिए। फ्रंट या बैकपैनल पर दो कैमरे भी अब लोकप्रिय फीचर हो गए हैं। कंपनी को इस बारे में भी सोचना चाहिए था।

22,000 रुपये की कीमत में Samsung Galaxy A5 (2017) एक अच्छा विकल्प है। आपको एक बेहतरीन बिल्ड वाला डिवाइस मिल जाएगा जो सैमसंग पे और वाटरप्रूफ जैसे शानदार फीचर के साथ आता है। वीवो का अपना वी5 प्लस भी एक अच्छा ऑप्शन है। लगभग इसी कीमत में आपको ज़्यादा पावरफुल प्रोसेसर मिलेगा, लेकिन यह अब भी एंड्रॉयड मार्शमैलो पर अटका है और इसमें स्टोरेज भी नहीं बढ़ाई जा सकती। गौर करने वाली बात है कि 15,000 रुपये में भी आज की तारीख में कई ऐसे फोन मिल जाते हैं जो महंगे वीवो वी7+ को कांटे की टक्कर देंगे।

लेनोवो के8 प्लस (Lenovo K8 Plus) का रिव्यू

लेनोवो के8 प्लस (Lenovo K8 Plus) का रिव्यू

ख़ास बातें

  • लेनोवो के8 प्लस में दो रियर कैमरे दिए गए हैं
  • एक कैमरा 13 मेगापिक्सल का है और दूसरा 5 मेगापिक्सल का
  • इसकी अहम खासियत में बैटरी भी शामिल है जो 4000 एमएएच की है
लेनोवो ने हाल ही में अपने कस्टम वाइब यूआई को बंद करने का फैसला किया। इसके साथ कंपनी के स्टॉक एंड्रॉयड सफर की शुरुआत हो गई। नया लेनोवो के8 प्लस इसी सफर का एक ठिकाना है। हाल के दिनों में स्टॉक एंड्रॉयड पर चलने वाले डिवाइस की मांग बढ़ी है, लेनोवो ने इस कारण से ही वाइब यूआई को हटा दिया। Lenovo K8 Note (रिव्यू) इस यूआई पर चलने वाला कंपनी का पहला फोन था। अब ग्राहकों के पास Lenovo K8 Plus का भी विकल्प है।

वैसे, शाओमी मी ए1 (रिव्यू) की तरह लेनोवो के8 प्लस एंड्रॉयड वन परिवार का हिस्सा नहीं है। लेकिन इसे इस्तेमाल करने का अनुभव लगभग एक जैसा ही है। क्या लेनोवो के8 प्लस में यह एक मात्र रोचक फीचर है? आइए जानते हैं।

Lenovo K8 Plus डिज़ाइन

अगर आपने हाल ही में किसी लेनोवो स्मार्टफोन को इस्तेमाल किया है तो के8 प्लस बहुत जाना-पहचाना सा लगेगा। मार्केट में मौज़ूद अन्य विकल्प की तरह लेनोवो के8 प्लस में मेटल बॉडी है। पहली नज़र में फोन का साइज़ आपका ध्यान खींचेगा। यह लेनोवो के8 और लेनोवो के8 नोट के बीच की कड़ी है। यह एक हाथ से इस्तेमाल करने के लिए बना है। फोन में 5.2 इंच का फुल एचडी डिस्प्ले है। कैपसिटिव एंड्रॉयड नेविगेशन बटन डिस्प्ले के नीचे हैं। लेनोवो ने इस फोन में नॉन बैकलिट नेविगेशन बटन का इस्तेमाल किया है। अंधेरे में इन बटन को खोज पाने में दिक्कत होती है।

पावर और वॉल्यूम बटन दायीं तरफ हैं। पावर बटन का टेक्सचर थोड़ा अलग है, इसलिए इसकी पहचान आसानी से हो जाती है। दूसरी तरफ, एक फिज़िकल म्यूजिक बटन है। इसका इस्तेमाल गाने प्ले या पॉज़ करने, या फिर गाने बदलने के लिए भी कर सकते हैं। अच्छी बात यह है कि इस बटन को स्क्रीनशॉट लेने या किसी खास ऐप को लॉन्च करने के लिए कस्टमाइज़ भी किया जा सकता है।

Lenovo

लेनोवो के8 प्लस एक डुअल सिम डिवाइस है और इसमें सिम ट्रे बायीं तरफ है। आपको नैनो सिम के लिए 2 स्लॉट मिलेंगे और माइक्रोएसडी कार्ड के लिए अलग स्लॉट है।

पिछले हिस्से पर के8 प्लस में दो रियर कैमरे दिए गए हैं। कैमरे डुअल-टोन एलईडी फ्लैश के साथ आते हैं। कैमरे के नीचे फिंगरप्रिंट सेंसर को जगह मिली है। इस तक पहुंच पाना आसान है। रिस्पॉन्स भी अच्छा है और हमें फोन को अनलॉक करने में कभी दिक्कत नहीं हुई। मेटल बैक पर आसानी से ऊंगलियों के निशान लग जाते हैं। ये हमारे वैनम ब्लैक रिव्यू यूनिट पर साफ नज़र आ रहे थे। फोन के निचले हिस्से पर माइक्रो-यूएसबी पोर्ट है। इसके दोनों तरफ स्पीकर ग्रिल हैं। 3.5 एमएम हेडफोन सॉकेट को टॉप पर जगह मिली है।

लेनोवो के8 प्लस थोड़ा मोटा है। मोटाई 8.99 मिलीमीटर है और वज़न 165 ग्राम। कुछ लोगों को यह थोड़ा बल्की लगेगा। इसकी वजह 4000 एमएएच की बड़ी बैटरी हो सकती है।

Lenovo K8 Plus के स्पेसिफिकेशन और सॉफ्टवेयर

लेनोवो के8 प्लस में 5.2 इंच का फुल-एचडी डिस्प्ले है। इस पर कॉर्निंग गोरिल्ला ग्लास 3 की प्रोटेक्शन मौज़ूद है। व्यूइंग एंगल अच्छे हैं। कलर रिप्रोडक्शन भी ठीक-ठाक है। अगर आपको पंची कॉन्ट्रास्ट चाहिए तो आपके पास डिस्प्ले का कलर मोड स्विच करने का विकल्प है। इंडोर के लिए ब्राइटनेस पर्याप्त है, लेकिन आपको सूरज की रोशनी में स्क्रीन पर कुछ पढ़ पाने में दिक्कत होगी।

लेनोवो ने 2.5 गीगाहर्ट्ज़ क्लॉक स्पीड वाला मीडियाटेक हीलियो पी25 ऑक्टा-कोर प्रोससर का इस्तेमाल किया है। लेनोवो के8 प्लस में 4 जीबी रैम दिए गए हैं। स्टोरेज 32 जीबी है और आप 128 जीबी तक का माइक्रोएसडी कार्ड इस्तेमाल कर पाएंगे।

ट्रेंड में बने रहे के लिए लेनोवो के8 प्लस में दो रियर कैमरे दिए गए हैं। एक कैमरा 13 मेगापिक्सल का है और दूसरा 5 मेगापिक्सल का। सेटअप में सेकेंडरी कैमरा डेप्थ मोड में डेप्थ नापने का काम करता है। फ्रंट पैनल पर 8 मेगापिक्सल का सेंसर दिया गया है। यह सेल्फी फ्लैश के साथ आता है। कनेक्टिविटी की बात करें तो स्मार्टफोन में दो नैनो सिम स्लॉट हैं और दोनों ही 4जी वीओएलटीई को सपोर्ट करते हैं। इसके अलावा आपको ब्लूटूथ और वाई-फाई बी/जी/एन मिलेगा।

Lenovo

एंड्रॉयड के दीवाने यह जानकर खुश होंगे कि लेनोवो के8 प्लस स्टॉक एंड्रॉयड नूगा पर चलता है। अब कंपनी के लेनोवो और मोटोरोला ब्रांड के यूआई में कोई अंतर नज़र नहीं आता। चुनिंदा माइक्रोसॉफ्ट ऑफिस ऐप के अलावा फोन में और कोई ब्लॉटवेयर नहीं है। लेनोवो की ओर से आपको फोन सेटअप करते वक्त ही कुछ ऐप इंस्टॉल करने का विकल्प भी मिलेगा। हालांकि, एंड्रॉयड वन फोन की तरह भविष्य में अपडेट का वादा नहीं किया गया है।

Lenovo K8 Plus परफॉर्मेंस, बैटरी लाइफ और कैमरा

लेनोवो ने के8 प्लस के लिए दमदार हार्डवेयर चुना है। बेंचमार्क टेस्ट के नतीज़े तो इसी ओर इशारा करते हैं। हमें रिव्यू के लिए 4 जीबी रैम वेरिएंट मिला था। यह मल्टीटास्किंग को आसानी से हैंडल करता है। इस फोन में इतना दम तो है ही कि आपको आम इस्तेमाल वाले ऐप पर काम करने में दिक्कत नहीं होगी। हमने स्नाइपर 3डी, ड्राफ्टी चेज़ और क्लैश रॉयल जैसे गेम इस फोन पर खेले। यह कभी धीमा नहीं पड़ा। हालांकि, लंबे समय तक गेम खेलने के दौरान फोन गर्म जरूर होता है। लेकिन इससे हमारा गेम खेलने का अनुभव बुरा नहीं हुआ।

Lenovo

फोन की बैटरी 4000 एमएएच की है। इस वजह से फोन थोड़ा मोटा हो गया है और वज़न भी ज़्यादा है। बैटरी लाइफ अच्छी है और फोन आम इस्तेमाल में करीब डेढ़ तक चल जाएगा। हमारे एचडी वीडियो लूप टेस्ट में बैटरी 13 घंटे 49 मिनट तक चली, जो अच्छा है। हैंडसेट के साथ दिए गए चार्जर से यह बड़ी बैटरी करीब 2 घंटे में पूरी तरह से चार्ज हो जाएगी।

लेनोवो ने बेहद ही बेसिक कैमरा ऐप दिया है जो इस्तेमाल करने में आसान है। एचडीआर और कैमरा मोड के टॉगल को आसानी से एक्सेस किया जा सकता है। आपको पनोरमा और प्रोफेशनल मोड मिलेंगे। आप 30 फ्रेम प्रति सेकेंड की दर से दोनों कैमरे से 1080 पिक्सल रिज़ॉल्यूशन वाले वीडियो रिकॉर्ड कर पाएंगे।

के8 प्लस से लिए गए लैंडस्केप फोटो ठीक-ठाक आए। लेकिन इनमें हमारी उम्मीद के मुताबिक शार्पनेस नहीं थी। दिन की रोशनी में एचडीआर मोड में ली गई तस्वीरें थोड़ी अटपटी सी लगती हैं। कभी अच्छी तस्वीरें आती हैं तो कभी खराब।  नाइट टाइम शॉट अच्छे आए। कैमरा कम रोशनी में नॉयज को नियंत्रित करने में सफल रहता है। मैक्रोज़ शॉट काफी अच्छे आए। कैमर ने दिन के उजाले और कम रोशनी वाली परस्थितियों में डिटेल के साथ तस्वीरें कैपचर की।

डेप्थ मोड को आसानी से इनेबल किया जा सकता है। आउटपुट में बैकग्राउंट और सब्जेक्ट के बीच अंतर स्पष्ट नज़र आता है। हालांकि, हमने पाया कि कैमरा कुछ तस्वीरें लेने के बाद थोड़ा धीमा पड़ जाता है। 8 मेगापिक्सल के फ्रंट कैमरे में ब्यूटीफाई फीचर है। इसे मैनुअली या ऑटो मोड में इस्तेमाल किया जा सकता है। फ्रंट कैमरे से ली गई तस्वीरें अच्छी क्वालिटी की थीं। इन्हें आप बिना झिझक मैसेंजर और सोशल नेटवर्किंग साइट पर इस्तेमाल कर पाएंगे। फ्रंट फ्लैश अंधेरे इलाकों में काम का फीचर साबित होता है।

img
img
img
img

हमारा फैसला

लेनोवो ने स्टॉक एंड्रॉयड को चुनकर और फीचर व कीमत में सामंजस्य हासिल कर लोकप्रियता हासिल करना चाहती है। Lenovo K8 Plus सक्षम हैंडसेट है और दैनिक इस्तेमाल में हर काम को बखूबी निभाता है। बैटरी लाइफ दमदार है। आप इसे एक दिन से ज़्यादा वक्त बिना चार्ज किए इस्तेमाल कर पाएंगे। आम यूज़र के लिए पर्याप्त स्टोरेज है। अच्छी बात यह है कि आपको माइक्रोएसडी कार्ड के लिए अलग स्लॉट मिलेगा, दूसरे सिम कार्ड से कोई समझौता करने की ज़रूरत नहीं। इसके अलावा दो रियर कैमरा वाला फीचर आज की तारीख में ग्राहकों को ध्यान खींच रहा है। लैंडस्केप मोड में कैमरा परफॉर्मेंस बेहतर हो सकती है, लेकिन ये भी याद रखना होगा कि यह एक बजट फोन है। अगर स्टॉक एंड्रॉयड अनुभव और अच्छी बैटरी लाइफ आपकी प्राथमिकता है तो Lenovo K8 Plus एक अच्छा विकल्प है।

Jio का नया ऑफर, 399 रुपये या महंगे रीचार्ज पर 2,599 रुपये का फायदा

Jio का नया ऑफर, 399 रुपये या महंगे रीचार्ज पर 2,599 रुपये का फायदा

ख़ास बातें

  • अब कंपनी एक बार फिर कैशबैक ऑफर के साथ वापस आ गई है
  • रिलायंस जियो के उपभोक्ताओं को 2,599 रुपये तक का फायदा मिलेगा
  • इस ऑफर की शुरुआत 10 नवंबर से होगी और यह 25 नवंबर तक चलेगा
रिलायंस जियो अपने ग्राहकों के लिए हर दूसरे हफ्ते कुछ न कुछ नया लेकर आती है। अभी दिवाली से ठीक पहले ही कंपनी ने अपने प्रीपेड और पोस्टपेड प्लान में बदलाव किए थे। अब कंपनी एक बार फिर कैशबैक ऑफर के साथ वापस आ गई है। याद रहे कि इससे पहले कंपनी ने दिवाली के मौके पर 100 फीसदी कैशबैक ऑफर दिया था। गैजेट्स 360 को जानकारी मिली है कि इस बार रिलायंस जियो के उपभोक्ताओं को 2,599 रुपये तक का फायदा मिलेगा। कंपनी नए ऑफर का ऐलान गुरुवार शाम तक करेगी। पिछली बार दिवाली कैशबैक ऑफर सिर्फ जियो के 399 रुपये वाले रीचार्ज पैक पर था। नए ऑफर में 399 रुपये व उससे महंगे सभी रीचार्ज पैक के साथ ग्राहकों को फायदा मिलेगा। इस ऑफर की शुरुआत 10 नवंबर से होगी और यह 25 नवंबर तक चलेगी।

रिलायंस जियो के नए कैशबैक ऑफर के तहत, अगर सब्सक्राइबर 399 रुपये या उससे महंगे पैक से मायजियो या जियो डॉट कॉम से रीचार्ज कराते हैं तो उन्हें कुल 400 रुपये का कैशबैक मिलेगा। कैशबैक 50 रुपये के आठ वाउचर के तौर पर दिया जाएगा। आप इन वाउचर का इस्तेमाल अगले रीचार्ज के दौरान पैक की कीमत 50 रुपये कम करने के लिए कर पाएंगे। अगर सब्सक्राइबर ऑफर अवधि के दौरान किसी डिजिटल वॉलेट से रीचार्ज करते हैं, तो भी उन्हें कैशबैक मिलेगा। उदाहरण के तौर पर, अगर आपने जियो नेटवर्क को अभी ज्वाइन किया है और अमेज़न पे से 459 रुपये का पैक रीचार्ज करते हैं तो आपको जियो की ओर से 400 रुपये का वाउचर मिलेगा और अमेज़न पे बैलेंस के तौर पर 99 रुपये का कैशबैक भी। इस तरह से कुल फायदा 499 रुपये का हो जाएगा।

गौर करने वाली बात है कि यह टेलीकॉम कंपनी पार्टनर वॉलेट के साथ नए ग्राहकों को मौज़ूदा जियो यूज़र की तुलना में ज़्यादा फायदा पहुंचा रही है। उदाहरण के लिए, फ्रीचार्ज प्लेटफॉर्म से अगर कोई पुराना जियो ग्राहक रीचार्ज कराता है तो उसे कोई कैशबैक नहीं मिलेगा।

पार्टनर वॉलेट के साथ मिलने वाला कैशबैक…

पार्टनर नए यूज़र के लिए कैशबैक मौज़ूदा यूज़र के लिए कैशबैक
मोबिक्विक 300 रुपये (कोड – NEWJIO) 149 रुपये (कोड – Jio149)
एक्सिस पे 100 रुपये 35 रुपये
अमेज़न पे 99 रुपये 20 रुपये
फोनपे 75 रुपये 30 रुपये
पेटीएम 50 रुपये (कोड – NEWJIO) 15 रुपये (कोड – PAYTMJIO)
फ्रीचार्ज 50 रुपये (कोड – JIO50) कुछ भी नहीं

 

कैशबैक के अलावा रिलायंस जियो की ओर से और भी ऑफर दिए जा रहे हैं जिसके बाद कुल फायदा 2,599 रुपये तक का हो जाएगा। इस ऑफर के तहत, आपको AJio.com से 1,500 रुपये या उससे ज़्यादा की खरीदारी करने पर 399 रुपये की छूट मिलेगी। वहीं, Reliancetrends.com से 1,999 रुपये या उससे ज़्यादा की खरीदारी पर 500 रुपये का इंस्टेंट डिस्काउंट मिलेगा। इसी तरह जियो ने यात्रा डॉट कॉम से भी साझेदारी की है। अगर आप इस ट्रैवल वेबसाइट से फ्लाइट की टिकट बुक कराते हैं तो एक तरफ की फ्लाइट पर 500 रुपये की छूट मिलेगी और राउंड ट्रिप पर 1,000 रुपये की।

गौर करने वाली बात है कि महीने भर में यह दूसरा जियो कैशबैक ऑफर है। एयरटेल भी कुछ इस तरह से अपने 349 रुपये वाले रीचार्ज पैक पर 100 फीसदी का कैशबैक ऑफर दे रही है।

Hotel, Restaurant Owners Meet GST Council Over Tax Rates

jio-price-hike_650x400_61508341616Hotel, Restaurant Owners Meet GST Council Over Tax Rates

The triple cashback is the first set of exclusive offers announced for Jio Prime members
Guwahati: The Federation of Hotels & Restaurants Association of India today said the body met with GST Council members, including state finance ministers, to press for rationalisation of tax rates for the industry.

“We have met the GST Council, which was represented by the Union Revenue Secretary Hasmukh Adhia. We have also met a couple of state Finance Ministers separately and put forward our demands,” Federation of Hotels & Restaurants Association of India (FHRAI) President Garish Oberoi told Press Trust of India.

The association is seeking reduction of GST to 12 per cent on all categories of restaurants from the differential rates of different segments, he added.

Currently, restaurants with no AC and no bar attract a GST of 12 per cent, while all other restaurants fall under the 18 per cent bracket.

“We also heard a news that GST Council was planning to remove the input credit system for the restaurants. This will hurt the industry and it will be against the basic principle of GST. It will also increase the prices. We requested not to remove it,” Oberoi said.

“They have listened to us and almost agreed to it. They have assured us of a favourable outcome,” he added. Regarding the hotel segment, Oberoi said FHRAI demanded that the tax slab for the luxury category be brought down to 18 per cent.

“We are losing market to other neighbouring nations. Nobody wants to hold any big event in any big hotels in India. We are no longer a competitor internationally.

Nowhere in the world, the tax is as high as 28 per cent. “They patiently listened to us on this demand also and assured us of discussing it in the main meeting. They too felt it is very high at present,” he added.

FHRAI put forward another demand of reclassifying the Integrated GST and allow the option to register a company at the place of business, Oberoi said.

“The officials, however, said it is as per the act. There is a flaw in the act actually. To rectify this, the act has to be amended. So this demand is unlikely to be met immediately,” he added.

Flipkart First Billion Capture+ Smartphone With Dual Rear Cameras Launched in India: Price, Specifications

Flipkart First Billion Capture+ Smartphone With Dual Rear Cameras Launched in India: Price, Specifications

Highlights

  • Capture+ is the first smartphone from Flipkart under its Billion brand
  • It goes on sale starting November 15
  • It’s price in India starts at Rs. 10,999

Flipkart on Friday unveiled its first Billion branded smartphone, the Capture+, in India. The Billion self-brand was announced in July this year, and is India-focused private label from Flipkart. The company says that the Billion+ has been developed keeping in mind consumer needs of Indian customers, and is ‘Made in India’. Some of the highlights of the Billion Capture+ include dual rear cameras, fast charging support, and unlimited cloud storage.

Flipkart Billion Capture+ price in India

The Billion Capture+ has been launched in India with a starting price of Rs. 10,999 for 3GB RAM and 32GB storage. There is another variant, priced at Rs. 12,999 for 4GB RAM and 64GB storage. The Capture+ will be available in Mystic Black and Desert Gold colours.

Flipkart has also announced launch offers where consumers can get finance options such as No Cost EMI, and discounts on select debit/credit cards and more. The e-commerce retailer has confirmed the launch of its Billion Capture+ smartphone in India on November 15.

Flipkart Billion Capture+ specifications

The all-new Billion Capture+ will sport metallic body and come with rounded corners for easy grip. The smartphone runs stock Android 7.1.2 Nougat with a promise of no bloatware and an upgrade to Android Oreo. It features a 5.5-inc full-HD (1080×1920 pixels) display with 2.5D Dragontrail glass on top and a 401ppi pixel density. Under the hood, the handset is powered by an octa-core Snapdragon 625 SoC coupled with 3GB and 4GB RAM. The smartphone supports expandable storage via microSD card (up to 128GB). Unfortunately, the company is yet to reveal the free cloud storage service tied up to the Capture+ smartphone that it has been teasing. It packs a 3500mAh battery and is claimed to offer two-days of battery life. It supports USB Type-C with quick charge support. Flipkart says that it can offer up to 7 hours of battery life in 15 minutes of charging.

One of the biggest highlight of the smartphone is it packs dual rear cameras. There are two 13-megapixel sensors at the back with dual flash module. At the back, there are RGB and monochrome sensors offering features like bokeh shots offering depth of field effect. It comes with portrait mode shots offering blur background highlights.

Additionally, Flipkart says that the Billion Capture+ smartphone will be supported by the pan India after sales service network of F1 Info Solutions, which is now owned by Flipkart.

Commenting on the launch of its first smartphone, Sachin Bansal, Co-Founder and Executive Chairman, Flipkart said, “The features in the Capture+ have been derived from deep data-mining of millions of Flipkart customers’ reviews. Few true dual camera phones offer this combination of flagship features. We’re sure this customer-centricity will delight Indian smartphone buyers.”

नोटबंदी की सालगिरह पर फिर बंटा यादव परिवार, अखिलेश ने नकारा अपर्णा ने सराहा

अखिलेश यादव-अपर्णा यादव
 

बुधवार 8 नवंबर को नोटबंदी ने अपना एक साल पूरा किया तो इसी दिन कानपुर देहात का खजांची नाथ 11 महीने 6 दिन का हो गया. नोटबंदी के धुरविरोधी अखिलेश यादव ने ट्वीट कर कहा नोटबंदी का जश्न नहीं, मैं खजांची नाथ का बर्थडे मनाऊंगा. आपको बता दें कि यह वही खजांची नाथ है जिसकी मां ने नोटबंदी के दौरान बैंक की कतार में घंटों खड़े रहने के बाद इस बच्चे को जन्म दिया था और बैंक वालों ने इसका नाम खजांची रख दिया था. अखिलेश यादव ने इस खजांची नाथ की मां को बतौर मुख्यमंत्री दो लाख रुपए का चेक दिया था जो आज भी इसका सहारा है.

एक तरफ अखिलेश यादव खजांची नाथ का जन्मदिन मनाकर अपने तरीके से नोटबंदी का विरोध दर्ज करा रहे हैं तो दूसरी ओर अपर्णा यादव जो उनके छोटे भाई की पत्नी हैं और परिवार की दूसरी बहू हैं. उन्होंने नोटबंदी के 1 साल पूरे होने पर नोटबंदी के समर्थन में ट्वीट किया है अपर्णा यादव ने #DeMoWins ट्वीट किया है.

2 दिसंबर को जिस दिन खजांची नाथ 1 साल का होगा अखिलेश यादव उसका जन्मदिन मनाएंगे. कानपुर देहात के झींझट कस्बे के आनंदपुर गांव में खजांची नाथ की मां सर्वेसा देवी 5 बच्चों के साथ आज भी झोपड़ी में रहती हैं. अब अखिलेश ने 2 दिसंबर को उसका जन्मदिन मनाने का फैसला किया है. साफ है अखिलेश यादव इसी बहाने लोगों को नोटबंदी के दोनों के तकलीफ को याद दिलाना चाहते हैं. इससे पहले अखिलेश ने नोटबंदी के एक साल पर उसकी बरसी लिखकर इसे मौत का प्रतीक करार दिया था.

नोटबंदी पर अखिलेश यादव और अपर्णा यादव का ट्वीट यादव परिवार के घमासान को उजागर करने के लिए काफी था. अपर्णा ने ट्वीट कर लिखा नोटबंदी सही या गलत है नहीं कह सकते, क्योंकि इतने कम समय में इसे गलत नहीं ठहराया जा सकता है.

साफ है कि अखिलेश और उनकी पार्टी इस मुद्दे पर अपने राय पर कायम है लेकिन परिवार में घमासान छिड़ा अभी भी छिड़ा हुआ है और वो हर मौके-बेमौके सामने आ ही जाता है.